माघी पूर्णिमा का अन्तिम एवं पांचवा मुख्य स्नान सकुशल सम्पन्न

उपासना डेस्क, इलाहाबाद: माघ मेला 2018 के माघ मास का अन्तिम एवं पांचवा मुख्य स्नान पर्व माघी पूर्णिमा सकुशल एवं निर्विघ्न सम्पन्न हुआ है। माघी पूर्णिमा स्नान पर्व पर कल्पवास की एक माह की अवधि समाप्त होने पर कल्पवास कर रहे कल्पवासियों को लेने हेतु उनके परिजनों का आगमन दिनांक 30.01.2018 से ही प्रारम्भ हो गया था। मौसम गर्म एवं सुहावना होने तथा मेला प्रशासन द्धारा की गयी बेहतर व्यवस्थाओं के कारण स्नानाथियों की संख्या काफी रही। लगभग 55 लाख स्नानार्थियों/श्रद्धालुओं ने पवित्र गंगा/यमुना एवं अदृश्य सरस्वती के पावन संगम तट पर तथा गंगा जी के अन्य घाटों पर स्नान कर पुण्य लाभ अर्जित कर अपने गन्तव्य की ओर वापस हो रहे हैं। स्नानार्थियों का आगमन निरन्तर बना हुआ है।

सम्पूर्ण माघ मास के सभी 05 स्नान पर्वो पर लगभग 502 लाख स्नानार्थियों/श्रद्धालुओं के द्धारा गंगा स्नान कर पुण्य लाभ अर्जित किया गया। माघ मास के सामान्य दिनों में भी लगभग 3.50 लाख प्रतिदिन स्नानार्थियों/श्रद्धालुओं ने स्नान कर पुण्य का लाभ अर्जित किया। इस प्रकार लगभग 586 लाख स्नानार्थियों/श्रद्धालुओं, साधु-सन्तों, कल्पवासियों, पर्यटकों द्धारा स्नान कर पुण्य लाभ अर्जित किया गया।

जिलाधिकारी, इलाहाबाद द्धारा स्नान पर्व को सकुशल सम्पन्न कराने में किये गये सहयोग पर आर्मी, आर0ए0एफ0, पुलिस प्रशासन, नागरिक सुरक्षा एवं सभी कार्यदायी विभागों को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए अन्तिम स्नान पर्व महाशिवरात्रि पर भी इसी तरह तत्परता एवं निष्ठा पूर्वक कार्य करने हेतु निर्देश दिये गये। माघी पूर्णिमा स्नान पर्व को सकुशल एवं निर्विघ्न सम्पन्न कराने में प्रेस प्रतिनिधियों, कल्पवासियों, प्रयागवाल, साधु-सन्तों एवं स्नानार्थियों का भी सहयोग रहा है। मेला क्षेत्र में 4039 महिला-पुरूष व 19 बच्चों को उनके परिजनों से मिलाया गया।

Comments

comments

error: Content is protected !!