कुम्भ मेला 2019 में लगी गिनीज विश्व रिकार्ड की हैट्रिक, 10,000 से अधिक की संख्या में सफाईकर्मियों ने 3 मिनट में एक साथ झाडू लगाकर स्थापित किया नया विश्व कीर्तिमान

उपासना डेस्क, प्रयागराज: कुम्भ मेला में की गयी विश्व स्तरीय व्यवस्थाओं को दुनिया के समक्ष रखकर उसे प्रदर्शित करन की श्रृंखला में हैट्रिक कायम हुयी है। लगातार 3 रिकार्ड गिनीज बुक में कुम्भ प्रयागराज के नाम दर्ज हो गये हैं। जिसके क्रम में प्रयागराज मेला प्राधिकरण के द्वारा शटल बसों, हस्तलिपि की चित्रकारी को विश्व पटल में प्रदर्शित करने के बाद कुम्भ मेला क्षेत्र का प्रमुख आकर्षण रही स्वच्छता व्यवस्था को भी गिनीज विश्व रिकार्ड में स्थान मिल गया है। इस तरह गिनीज विश्व रिकार्ड में प्रयागराज मेला प्राधिकरण के द्वारा गिनीज विश्व रिकार्ड की हैट्रिक लगा दी गयी है।

मा. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री सिद्धार्थनाथ सिंह जी ने आज कुम्भ मेला क्षेत्र के लाल सड़क पर हजारों की संख्या में खड़े सफाईकर्मियों के साथ खुद झाडू लेकर स्वच्छता अभियान में झाडू लगायी। इस अभियान में एडीजी श्री एस.एन.साबत, डीआईजी श्री के.पी.सिंह, मेलाधिकारी श्री विजय किरन आनन्द, अपर निदेशक स्वास्थ्य श्री ए.के. पालीवाल तथा सीएमओ डॉ गिरिजाशंकर वाजपेयी सहित बहुत से अधिकारियों ने भी झाडू हाथ में उठाकर सड़क की सफाई की। इस पूरे कार्यक्रम की मानीटरिंग गिनीज विश्व बुक रिकार्ड के निर्णायक मण्डल के प्रमुख श्री ऋषिनाथ की टीम के द्वारा की गयी।
उल्लेखनीय है कि ढाका में एक जगह पर सात हजार से अधिक लोगो के द्वारा सफाई का रिकार्ड बनाया गया था। लेकिन कुम्भ मेला क्षेत्र के विभिन्न 5 क्षेत्रांे में हजारों की संख्या में सफाईकर्मियों ने एक साथ झाडू लगाकर एक नया कीर्तिमान स्थापित कर दिया है। कुम्भ मेला के लाल सड़क-1 सेक्टर-1, लाल सड़क-2, सेक्टर-2, संकटमोचन मार्ग अरैल, सेक्टर-7 कैलाशपुरी, संगम लोउर मार्ग पर दस हजार से अधिक सफाईकर्मियों ने एक साथ 3 मिनट में झाडू लगाकर एक नया कीर्तिमान स्थापित किया।
मा. स्वास्थ्य मंत्री जी ने कहा कि यह एक ऐतिहासिक दिन है, जिसमें दस हजार से अधिक की संख्या में सफाईकर्मी कुम्भ मेला क्षेत्र के विभिन्न क्षेत्रों मे एक साथ सफाई कर एक कीर्तिमान स्थापित कर रहे हैं। जो अभी तक विश्व का प्रथम रिकार्ड है। मा. मंत्री जी ने कहा कि कुम्भ के आयोजन के लिए की गयी स्वच्छता की विश्वस्तर की तैयारियां की गयी हंै, जिन्हें इस कार्यक्रम के द्वारा विश्व के पटल पर प्रदर्शित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि करोड़ों की संख्या में लोगांे ने कुम्भ के संगम में आस्था की डुबकी लगायी है, यह भी अपने आपमें कीर्तिमान है। उन्होंने कहा कि कुम्भ-2019 को स्वच्छ कुम्भ के रूप मंे देश एवं विदेश में जाना जा रहा है। पूरी तरह खुले में शौच मुक्त रखना, दुर्गन्ध मुक्त रखना तथा कूडे का निस्तारण करने से पूरे मेला क्षेत्र से स्वच्छता का संदेश दिया गया है। उन्होंने कहा कि मा. प्रधानमंत्री भी स्वयं इस भव्य एवं दिव्य मेला मंे आकर स्नान किये तथा कुम्भ मेला के स्वच्छ रखने में अपना महत्वपूर्ण सहयोग देने वाले सफाईकर्मियों को सम्मानित करने के साथ पैर धोकर उन्हें पोंछा भी है। यह कोई साधारण चीज नहीं है। उन्होंने कहा कि सफाई कर्मी कुम्भ मेले के रियल हीरो हैं तथा उन्हीं से प्रयागराज के कुम्भ में सफाई व्यवस्था को बनाये रखने में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। मा. मंत्री जी ने उपस्थित सभी सफाईकर्मियों को सर्वाधिक लोगांे द्वारा एक साथ सफाई करने का विश्व रिकार्ड बनाने पर बधाई दी। एडीजी प्रयागराज श्री एस.एन.साबत तथा डीआईजी कुम्भ श्री के.पी. सिंह ने सफाईकर्मियों के कुम्भ मेला में सफाई व्यवस्था में उनके योगदान के लिए सराहना की। उन्होंने भी इस सफाई कार्यक्रम में मा. मंत्री जी के साथ खुद झाडू उठाकर झाडू लगाकर इस विश्व रिकार्ड के सहभागी बने। इस अवसर पर सभी ने हजारो की संख्या में आसमान की ओर झाड़ू उठाकर देशभक्ति तथा गंगा माॅ के जयकारे लगाये।
मेलाधिकारी श्री विजय किरन आनन्द ने कहा कि कुम्भ मेला के आयोजन में सफाई व्यवस्था को सुव्यवस्थित रखने के लिए अनेक कार्य किये गये थे। जिसमें मुख्य रूप से एक लाख से अधिक शौचालयों को मेला क्षेत्र मे स्थापित कर पूरे मेला क्षेत्र को ओडीएफ करने में सहायता मिली, जिसकी प्रशंसा यहां पर आने वाले लोगांे द्वारा भी की गयी। कुम्भ में स्वच्छ कुम्भ की परिकल्पना को साकार किया गया है। उन्होंने कहा कि मेला क्षेत्र को ओडीएफ मुक्त करने के साथ दुर्गन्ध मुक्त भी रखा गया है। उन्होंने बताया कि सफाई व्यवस्था के लिए 20 हजार कूडादान, 40 डिपर, 40 काम्पेटर तथा अत्याधुनिक तकनीको का प्रयोग करते हुए पूरे मेला क्षेत्र मे सफाई व्यवस्था को सुद्ढ किया गया है।

Comments

comments

error: Content is protected !!