संस्कृति विभाग के वेबसाइट का किया लोकार्पण, कुम्भ मेला पर बनी लघु फिल्म एवं कुम्भ काफीटेबल बुक का विमोचन

उपासना डेस्क, प्रयागराज: मुख्यमंत्री जी वहां से निकलकर मेला क्षेत्र में स्थापित गंगा पण्डाल पहुंचे, जहां पर उन्होंने 81 परियोजनाओं के लिए 2400 4.88 लाख रू0 की धनराशि की सौगात प्रयागराज को दी। उन्होंने सम्बोधित करते हुए कहा कि भव्य, दिव्य एवं सुरक्षित कुम्भ को स्वच्छ एवं साफ-सुथरा रखने के लिए अधिकारियों के प्रयासों की मुक्तकंठ से सराहना की। उन्होंने स्वच्छता की शपथ दिलायी और कहा कि स्वच्छ कुम्भ पर गर्व है। मुख्यमंत्री जी ने कुम्भ मेला स्थित विशाल एवं भव्य गंगा पण्डाल में सफाई कर्मिंयों को स्वच्छता किट देकर तथा स्वच्छाग्रहियों को स्मृति चिन्ह आदि देकर सम्मानित भी किया। उन्होंने संस्कृति विभाग के वेबसाइट का लोकार्पण किया तथा कुम्भ मेला पर बनी लघु फिल्म को देखा एवं कुम्भ काफीटेबल बुक का भी विमोचन किया। इसके अलावा बैंक आफ बड़ौदा द्वारा कुम्भ में श्रद्धालुओं के लिए की गई विभिन्न बैकिंग सुविधाओं का भी शुभारम्भ किया।

मुख्यमंत्री जी ने स्वच्छता के लिए स्वच्छाग्रहियों और सफाई कर्मिंयों का ह्रदय से स्वागत एवं अभिनंदन करते हुए उनको कुम्भ के महापर्व के नींव का पत्थर बताया। इसी कड़ी में कहा कि किसी भवन के लिये नींव का मजबूत होना जितना जरूरी है उसी तरह किसी भी आयोजन के दिव्यता एवं भव्यता के लिए स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जाना उतना ही आवश्यक है। कुम्भ मेले में स्वच्छता के लिए 10 हजार से अधिक सफाई कर्मीं लगाये गये है, जिनकी सफाई में बड़ी भूमिका है। स्वच्छता के लिए अन्य लोगो को भी प्रेरित करने पर बल देते हुए कहा कि दिव्य, भव्य एवं स्वच्छ कुम्भ की परिकल्पना को साकार करें। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में प्रयागराज की चमकती-दमकती एवं सुन्दर स्वरूप दिखायी दे रही है। मुख्यमंत्री जी ने मण्डलायुक्त डाॅ0 आशीष कुमार गोयल, मेलाधिकारी श्री विजय किरन आनन्द, अपर पुलिस महानिदेशक, डीआईजी कुम्भ मेला सहित मेला की व्यवस्था से जुड़े अन्य सम्बन्धित विभागों के कार्यों की और व्यवस्था की मुक्तकंठ से सराहना की। उन्होंने कुम्भ की ब्र्रांडिंग में मीडिया की भूमिका की भी सराहना की। मुख्यमंत्री जी ने प्रयागराज की धार्मिंक, सांस्कृतिक, पौराणिक, ऐतिहासिक महत्व को को रेखांकित करते हुए प्रयागराज में वास्तव में गंगा यमुना एवं अर्दश्य सरस्वती की त्रिवेणी जिस आस्था के कारण देश दुनिया के करोड़ों लोग कुम्भ के आकर्षण के कारण खींचे चले आते है, उस आस्था का सम्मान बरकरार रखने का आह्वान किया। उन्होंने यह भी कहा कि कुम्भ के दौरान श्रद्धालुओं को कोई दिक्कत न हो इसी को ध्यान में रखते हुए पूरी व्यवस्था की गयी है। उन्होंने कुम्भ का एक सकारात्मक संदेश दुनिया में पहुंचाने के लिए मीडिया के प्रति आभार व्यक्त किया और तीर्थराज प्रयाग के कुम्भ मेला में सभी श्रद्धालुओं एवं तीर्थयात्रियों को भाग लेने के लिए आमंत्रित किया।

Comments

comments

error: Content is protected !!